ताजा खबर
Gurgaon में 'अश्लील इशारे' करने के लिए महिला की कार को मारी टक्कर, व्यक्ति पर मामला दर्ज   ||    भारत जोड़ों यात्रा को मजबूती देने के लिए मैसूर पहुंची सोनिया गांधी !   ||    विकास पर शोध के लिए वीडिश वैज्ञानिक स्वंते पाबो को दिया गया नोबेल पुरस्कार !   ||    BSNL ने की घोषणा, नवंबर से 4जी नेटवर्क करेगा शुरू !   ||    टाइम-बम की तरह हैं मुफ्त में मिलने वाली चीजें, जीडीपी के एक फीसद तक सीमित हो इन पर होने वाला खर्च: S...   ||    Business News : त्योहारी सीजन में ग्राहकों की जेब पर होगा हमला, सीएनजी की कीमतों में 8-12 रुपये प्रत...   ||    अंधविश्वास के कारण अयोध्या में साधु ने अपनी हथेली काटकर दुर्गा माता को चढ़ाई, जानें पूरा मामला !   ||    IND vs SA 3rd T20: आज अफ्रीका को क्लीन स्वीप करेगा भारत? टीम में हो सकती है बदलाव   ||    वेस्ट इंडीज के युवा खिलाड़ी को दो बार हवाई जहाज छोडने की कीमत T20 world Cup से बाहर होकर चुकानी पड़ी...   ||    Knowledge News : यदि आप भी हैं Sunburn से परेशान तों, करें एलोवेरा का उपयोग, जानिए कैसे ?   ||   

वैज्ञानिकों ने शोध में पाया, हार्ट अटैक के बाद भी आपका दिल पहले की तरह हो सकता है स्वस्थ

Posted On:Friday, June 24, 2022

मुंबई, 24 जून, (न्यूज़ हेल्पलाइन)। हार्ट अटैक एक गंभीर बीमारी है। दुनियाभर में होने वाली कुल मौतों में दिल की बीमारी से होने वाली मौतें एक चौथाई हैं।  हार्ट अटैक के बाद भी आपका दिल पहले की तरह स्वस्थ हो सकता है। यूनिवसिर्टी ऑफ कैलिफोर्निया द्वारा हाल ही में किए गए एक शोध में यह बात सामने आई है। वैज्ञानिकों ने शोध में पाया कि हार्ट अटैक से डेड होने वाली कोशिकाओं (सेल्स) को हॉर्मोन के जरिए दोबारा जीवित किया जा सकता है। खास बात ये है कि ये बिल्कुल नेचुरल होंगी।

 जो जीन थैरेपी प्रक्रियाओं के मामले में भी काफी फायदेमंद साबित होगी। अभी यह प्रयोग चूहो में किया गया है। इसका इंसानों पर परीक्षण बाकी है। अगर परीक्षण मनुष्यों पर कारगर रहा, तो उन लोगों को बचाना और उनके लंबे जीवन की राह खुल सकती है, जिन्हें दिल का दौरा पड़ा है। चूहों पर किए गए इस प्रयोग में एक सिंथेटिक मैसेंजर राइबोन्यूक्लिक एसिड का इस्तेमाल किया गया है। इस तकनीक में mRNA DNA अनुक्रमों का एक ‘ब्लूप्रिंट’ बनाता है, जिसे शरीर प्रोटीन बनाने के लिए वहां पर इस्तेमाल करता है, जहां प्रोटीन हमारी कोशिकाओं को बनाता और नियंत्रित करता है।

वैज्ञानिक के ऐसा करने का मकसद एमआरएनए में बदलाव करके अलग-अलग जैविक प्रक्रियाओं के लिए अलग-अलग निर्देश देना है। यह मैसेज दो तरह से पैदा होते हैं। पहला- स्टेमिन और दूसरा वाईएपी5एसए के जरिए। ये दोनों हॉर्मोन हृदय की मांसपेशियों की कार्डियोमायोसाइट्स को एक्टिव कर देते हैं। इससे हृदय की उन कोशिकाओं को जिंदा करने में मदद मिलती है, जो डेड हो चुकी हैं। वैज्ञानिक डेड कोशिकाओं को नई कोशिकाओं की शक्ल चाहते हैं।


लखनऊ और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. Lucknowvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.