ताजा खबर
India Canada Row: निज्जर मामले में और सख्त हुआ भारत, कनाडा को 41 राजनयिकों को वापस बुलाने का दिया आद...   ||    Nijjar massacre : अमेरिका ने फिर की भारत से जांच में सहयोग की अपील, कहा- कनाडा के साथ समन्वय जारी   ||    PM Modi: आज छत्तीसगढ़ और तेलंगाना के दौरे पर जाएंगे पीएम मोदी, बस्तर में स्टील प्लांट का करेंगे उद्घ...   ||    Crime News : जालंधर में शराबी पिता ने की तीन बेटियों की हत्या, ट्रंक में छिपाई थी लाशें; ये बताई कत्...   ||    Deoria Murder: 6 लोगों की हत्या से दहला देवरिया, पूर्व जिला पंचायत सदस्य को भी मारी गोली, सीएम खुद क...   ||    Fact Check: टायर से निकाली जा रही 2000 रुपए की गड्डियों का ये वीडियो चार साल पुराना है, RBI के फैसले...   ||    Mangalwar Puja: क्या मंगलवार के दिन हनुमान जी के साथ शनि देव की भी पूजा कर सकते हैं, यहां जानिए   ||    Nishad Kumar Birthday Special: हिमाचल के छोटे गांव में​ लिया जन्म और रचा इतिहास, यहां डालिए, उनके कर...   ||    शादाब खान ने बताया कौन है भारत का सबसे खतरनाक बल्लेबाज और गेंदबाज, कोहली-बुमराह का नहीं किया जिक्र   ||    World Cup: 'अब इसकी आदत हो गई है...', वनडे विश्व कप टीम में नहीं चुने जाने पर छलका युजवेंद्र चहल का ...   ||   

NMC के तय स्टैंडर्ड का पालन नहीं करने पर देश के 40 मेडिकल कॉलेजों ने गवाई मान्यता​​​, जानिए पूरा मामला

Posted On:Wednesday, May 31, 2023

मुंबई, 31 मई, (न्यूज़ हेल्पलाइन)। नेशनल मेडिकल कमीशन (NMC) के तय किए गए स्टैंडर्ड का पालन नहीं करने पर पिछले दो महीनों में देश के करीब 40 मेडिकल कॉलेज मान्यता गंवा चुके हैं। NMC ने एक महीने से अधिक समय तक किए गए निरीक्षण के दौरान इन मेडिकल कॉलेजों में कई खामियां पाईं। CCTV कैमरे, आधार से जुड़ी बायोमेट्रिक एटेंडेंस प्रोसेस और फैकल्टी रोल में खामियां मिली हैं। ये कॉलेज सही कैमरा लगाने और उनके कामकाज सहित अन्य स्टैंडर्ड फॉलो नहीं कर रहे थे। बायोमेट्रिक सुविधा ठीक नहीं थी। कई डिपार्टमेंट्स में फैकल्टी पोजिशन की पोस्ट खाली मिलीं। वहीं, तमिलनाडु, गुजरात, असम, पंजाब, आंध्र प्रदेश, पुडुचेरी और पश्चिम बंगाल में करीब 100 और मेडिकल कॉलेजों पर भी ऐसी ही कार्रवाई की जा सकती है।

तो वहीं, सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 2014 के बाद से मेडिकल कॉलेजों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है। स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने फरवरी में राज्यसभा को बताया था कि देश में 2014 में 387 मेडिकल कॉलेज थे, लेकिन अब 69 प्रतिशत इजाफे के साथ इनकी संख्या 654 हो चुकी है। इसके अलावा, MBBS सीटों में 94 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है जो वर्ष 2014 के पहले की 51,348 सीट से बढ़कर अब 99,763 हो गई हैं। PG सीटों में 107 प्रतिशत की वृद्धि हुई है जो साल 2014 से पहले की 31,185 सीट से बढ़कर अब 64,559 हो गईं हैं। देश में अब 22 अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान हैं (AIIMS) हैं जिनकी संख्या 2014 में सात थी।

सूत्रों ने कहा कि मेडिकल कॉलेजों के पास अपील करने का विकल्प है। NMC में 30 दिनों के भीतर पहली अपील की जा सकती है। अगर अपील खारिज होती है तो वे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से संपर्क कर सकते हैं। दिसंबर में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने मेडिकल कॉलेजों के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी दी थी जो नियमों का पालन नहीं करते हैं या उचित फैकल्टी नहीं रखते हैं। उन्होंने कहा था कि हमें स्टूडेंट्स को क्वालिटी एजुकेशन देना है, हमें अच्छे डॉक्टर तैयार करने हैं।

राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने कहा था कि देश में डॉक्टरों की संख्या बढ़ाने के लिए सरकार ने पहले मेडिकल कॉलेजों की संख्या बढ़ाई और इसके बाद MBBS की सीटें बढ़ाई हैं। देश में मेडिकल सीटों की संख्या बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा किए गए उपायों और उठाए गए कदमों में जिला/रेफरल अस्पतालों को अपग्रेड करके नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना के लिए एक केंद्र सरकार की योजना शामिल है। जिसके तहत स्वीकृत 157 में से 94 नए मेडिकल कॉलेज पहले से ही कार्यरत हैं। वहीं, मेडिकल एक्सपर्ट्स ने कहा कि NMC काफी हद तक आधार से जुड़ी बायोमेट्रिक उपस्थिति प्रणाली पर निर्भर है, जिसके लिए यह केवल उन फैकल्टी पर विचार करता है जो सुबह आठ बजे से दोपहर दो बजे तक दिन के समय ड्यूटी पर होते हैं। साथ ही एक अन्य विशेषज्ञ ने कहा, इस तरह के प्रयोग से वैश्विक स्तर पर भारत की छवि धूमिल हो रही है क्योंकि भारत डॉक्टरों का सबसे बड़ा सप्लायर है और ऐसे मामले सामने आने से दुनिया का भारतीय डॉक्टरों पर से विश्वास उठ जाएगा।


लखनऊ और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. Lucknowvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.